समाचार
इमरान खान की शांति वार्ता के विपरीत उनके मंत्री का गज़वा-ए-हिंद के लिए आह्वान

जहाँ एक तरफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शांति और दोनों देशों के बीच तनाव कम करने की बात कर रहे हैं. वहीं उनके मंत्री अली मोहम्मद खान रिकॉर्ड पर मुहम्मद बिन कासिम और गज़नी के मुहम्मद की बात करते हुए गज़वा-ए-हिंद (भारत के विरुद्ध धर्म युद्ध) का आह्वान कर रहे हैं।

एक ट्विटर उपभोक्ता ने जिओ न्यूज़  चैनल पर प्रसारित कार्यक्रम की एर वीडियो क्लिप साझा की जहाँ पाकिस्तान के संसदीय राज्य मंत्री अली मुहम्मद खान ने पाकिस्तानियों को भारत के आक्रमणकारियों का वंशज कहा। पूरा कार्यक्रम यहाँ देखें

“खान साहब (इमरान खान) ने नरेंद्र मोदी को याद दिलाया कि हम टीपू सुल्तान के वंशज हैं कि हम मर जाएँगे लेकिन अपमान का जीवन नहीं जीएँगे। मैं उन्हें मुहम्मद बिन कासिम और गज़नी के महमूद की याद दिलाना चाहूँगा।”, अली मुहम्मद खान ने कहा।

याद दिला दें कि मुहम्मद बिन कासिम भारतीय उपमहाद्वीप पर पहला इस्लामी आक्रमणकारी था और गज़नी अफगान शासक था जिसने सोमनाथ समेत उत्तर भारत पर आक्रमण कर लूटा था।

इसके आगे खान ने कहा, “गज़वा-ए-हिंद तो होना ही है। क्या आप इसके लिए उत्सुक हैं?” गज़वा-ए-हिंद का उल्लेख हादिस में मिलता है जिसमें भारत पर इस्लामी आक्रमण की बात कही गई है। हालाँकि कुछ विद्वान इससे मतभेद रखते हैं लेकिन इसका प्रयोग आतंरवादियों को भड़काने के लिए होता है।

मंत्री ने और कहा, “सिर्फ हमारे 22 करोड़ मुस्लिम नहीं बल्कि तुम्हारी तरफ के 30 करोड़ मुस्लिम भी इस्लाम के नाम पर तुम्हारे विरुद्ध खड़े हो जाएँगे श्रीमान मोदी और फिर आपको गंगा-जमुना नहीं, सीधे अरब सागर में जगह मिलेगी।”

पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद अहमद ने हाल ही में एख बयान में भारत को परमाणु युद्ध के नाम पर धमकाया और कहा भारतीय मंदिरों में कोई घंटी सुनाई नहीं देगी।

शेख रशीद ने कहा, “अगर कोई भी पाकिस्तान पर दुष्ट दृष्टि से देखेगा तो उसकी आँखें नोंच ली जाएँगी और फिर कोई घास नहीं उगेगी, कोई चिड़िया नहीं चहचहाएगी, किसी मंदिर में घंटियाँ नहीं बजेंगी। पाकिस्तान मुस्लिमों का प्रणेता है जिसकी ओर पूरे विश्व के मुस्लिम आँख गड़ाए हुए हैं।”