समाचार
शपथ ग्रहण समारोह में नहीं होंगे आठ राज्यों के मुख्यमंत्री, बताए अलग-अलग कारण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुरुवार को शपथ ग्रहण समारोह में आठ राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल नहीं हो रहे हैं। उन्होंने सोशल मीडिया या अन्य माध्यमों से अपनी अनुपस्थिति की वजह दर्ज करवा दी है।

राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में होने वाले समारोह में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, ओडिशा के नवीन पटनायक, छत्तीसगढ़ के भूपेश बघेल, पंजाब के कैप्टन अमरिंदर सिंह, राजस्थान के अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के कमल नाथ, केरल के पिनाराई विजयन और मिजोरम के  ज़ोरमथांगा शामिल नहीं होंगे।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था, “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देना चाहता हूँ। अपने तय कार्यक्रम की वजह से मैं शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जा पा रहा हूँ। मैंने उनसे बाद में मिलने का मुख्यमंत्री कार्यालय से समय माँगा है।”

तय कार्यक्रम की ही बात कहकर ज़ोरमथांगा ने भी समारोह में सम्मिलित न होने पर खेद जताया। इसके स्थान पर उन्होंने अपने राज्य से अन्य मंत्रियों को समारोह में भेजा है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहले कार्यक्रम में जा रही थीं लेकिन बाद में उन्होंने अपना इरादा पलट दिया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “लोकतंत्र के उत्सव का जश्न मनाने के लिए शपथ ग्रहण पवित्र मौका होता है। यह ऐसा मौका नहीं, जिसमें दूसरी पार्टी को महत्वहीन बनाने की कोशिश की जाए।”

दरअसल, लोकसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में 50 से अधिक भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई थी। नरेंद्र मोदी ने उनके परिवारों को समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। भाजपा ने इसे राजनीतिक हत्‍या करार देते हुए इसका आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगाया था। इसके बाद ही ममता बनर्जी ने समारोह में जाने का अपना इरादा बदल दिया है।