समाचार
आईपीएस अधिकारी की छापेमारी पर विजयन ने लगाया आरोप, विभाग ने दी क्लीन चिट

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के कार्यालय पर छापा मारने के लिए विभागीय जाँच का सामना कर रहे भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी चैत्रा टेरेसा जॉन को क्लीन चिट दी गई है। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने पहले पार्टी परिसर में छापेमारी के लिए जॉन पर प्रहार किया था। विजयन ने दावा किया कि राजनीति में लोगों की छवि को धूमिल करने के लिए छापा मारा गया।

चैत्रा द्वारा निर्देशित पुलिस टीम ने डीवाईएफआई, मार्क्सवादी पार्टी की युवा शाखा के उन नेताओं का पता लगाया, जो कथित तौर पर शहर के पुलिस स्टेशन में पथराव करने में शामिल थे।

डेक्कन क्रॉनिकल  द्वारा प्रेषित रिपोर्ट के हिसाब से विजयन ने दावा किया, “कुछ निहित स्वार्थों की वजह से राजनीति में जो लोग शामिल हुए हैं उनकी छवि को धूमिल करने की ओर झुकाव है, और ऐसे मौके आए हैं जब कुछ लोग इस तरह की प्रवृत्तियों को बढ़ावा देने हेतु शामिल भी हुए हैं। एक लोकतांत्रिक समाज केवल इस तरह के दृष्टिकोण को सुधारने के बाद ही आगे बढ़ सकता है।”

न्यूज़ 18 द्वारा प्रेषित रिपोर्ट के हिसाब से इस मामले के संबंध में पार्टी जिला सचिव से एक शिकायत प्राप्त हुई थी। हालाँकि, जॉन को जाँच पैनल द्वारा क्लीन चिट दी गई जिसमे विपक्ष के नेता भी मौजूद थे और उसमें कहा गया था कि उनकी छापेमारी कानूनी थी और अगर अधिकारी के खिलाफ कोई भी कार्रवाई की जाती है तो जनता को एक गलत संदेश दिया जाएगा और पुलिस बल के मनोबल को भी क्षति पहुँचेगी।