समाचार
डीआरडीओ की दवा 2-डीजी को मिली कोविड उपचार में आपात उपयोग की अनुमति

डीआरडीओ की लैब इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज द्वारा डॉक्टर रेड्डी की लैब के साथ मिलकर बनाई गई कोरोना की ओरल दवा- 2- डिऑक्सी-डी-ग्लूकोज को डीसीजीआई से भारत में आपात उपयोग की अनुमति मिल गई है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, दवा के क्लीनिकल ट्रायल के परिणाम बताते हैं कि यह संक्रमित मरीज़ों को जल्द ठीक करने में कारगर है। इससे ऑक्सीजन की आवश्यकता भी कम पड़ती है।

अप्रैल 2020 में कोरोना की पहली लहर के दौरान आईएनएमएएस व डीआरडीओ के वैज्ञानिकों ने हैदराबाद के सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (सीसीएमबी) की सहायता से प्रयोग किए। इसमें पाया कि अणु कोरोना वायरस के खिलाफ प्रभावी रूप से काम करता है। यह वायरस की वृद्धि को रोकता है।

दावा किया जा रहा है कि इस दवाई को लेने वाले मरीज़ों की जाँच रिपोर्ट आरटी-पीसीआर परीक्षण में नकारात्मक आई है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महामारी के खिलाफ तैयारी करने की अपील के बाद डीआरडीओ ने दवा 2-डीजी को बनाने का कदम उठाया।