समाचार
डीआरडीओ के अध्यक्ष को मिसाइल विकास के लिए मिला प्रतिष्ठित अमेरिकी पुरस्कार

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी को अमेरिकन इंस्टीट्युट ऑफ़ एअरोनॉटिक्स एंड ऐस्ट्रोनॉटिक्स (एआईएए) ने 2019 का मिसाइल सिस्टम्स पुरस्कार दिया है, डिफेन्स न्यूज़  ने रिपोर्ट किया।

“स्वदेशी डिज़ाइन, विकास और विविध रणनैतिक व सामरिक मिसाइल सिस्टम के परिनियोजन, दिशानिर्देशित हथियार, आधुनिक एविओनिक्स व नैविगेशन टेक्नोलॉजी को भारत में विकसित कर देश को समर्पित करने के लिए उन्हें चुना गया।”, एआईएए ने कहा।

रेड्डी ने महाद्वीपों के बीच बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि5 के विकास में बहुत योगदान दिया है। एरिज़ोना में टक्सन के रेथिओन मिसाइल सिस्टम के रॉन्डेल जे विल्सन संयुक्त विजेता हैं।

“मिसाइल तकनीक को लागू करने में उत्तम विकास और मिसाइल सिस्टम में नेतृत्व के लिए उन्हें सराहा गया है।”, एआईएए के कथन में कहा गया। यह छमाही पुरस्कार मिसाइल सिस्टम में तकनीकी योगदान देने वालों को दिया जाता है।

डीआरडीओ के अध्यक्ष ने डॉ एपीजे अब्दुल कलाम मिसाइल कॉम्प्लैक्स और मिसाइल व स्ट्रैटेजिक सिस्सटम्स के महानिदेशक रहते हुए हैदराबाद की अन्य प्रयोगशालाओं का नेतृत्व किया।

डीआरडीओ ने एक कथन में कहा, “उनकी स्वदेशी डिज़ाइन और आधुनिक एविओनिक्स की रणनीति ने अंतर्राष्ट्रीय दायरों के अंतर्गत कई मिसाइलों और दिशानिर्देशित हथियार का निर्माण किया।”