समाचार
दूरसंचार विभाग ने 5जी तकनीक व स्पेक्ट्रम परीक्षण की दी अनुमति, चीनी हुआवे बाहर

दूरसंचार मंत्रालय ने जानकारी दी कि दूरसंचार विभाग ने मंगलवार (4 मई) को 5जी तकनीक और स्पेक्ट्रम परीक्षण की अनुमति दे दी है। इसके बाद दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियाँ देश के विभिन्न स्थानों पर इसका परीक्षण शुरू कर देंगी।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, दूरसंचार मंत्रालय ने बताया, “कंपनियाँ ये परीक्षण ग्रामीण, अर्ध शहर और शहरी क्षेत्रों में शुरू करेंगी। 5जी तकनीक का परीक्षण करने वाली कंपनियों में भारतीय एयरटेल, रिलायंस जियो, वोडाफोन आइडिया, एमटीएनएल शामिल हैं।”

हालाँकि, इन कंपनियों ने मूल उपकरण निर्माताओं और तकनीक मुहैया कराने वाली कंपनियों नोकिया, एरिक्सन, नोकिया, सैमसंग, रिलायंस जियोइंफोकॉम और सी डॉट से हाथ मिलाया है। सबसे खास बात है कि हुआवे को सरकार ने इससे बाहर कर दिया है।

बता दें कि वर्तमान में परीक्षण की अवधि छह महीने की है। इस 5जी परीक्षण के लिए उपकरण खरीदने और उन्हें लगाने के लिए दो माह का समय भी इस अवधि में शामिल रहता है। रिलायंस जियो इस परीक्षण में अपनी द्वारा खुद विकसित की गई तकनीक का उपयोग भी करेगी। विशेषज्ञों की मानें तो 5जी की स्पीड 100 एमबी प्रति सेकंड से अधिक मिलनी तय है लेकिन विशेष उपकरणों की मदद से इसे 1000 एमबीपीएस तक पहुँचाया जा सकता है।