समाचार
डोनाल्ड ट्रंप के विरुद्ध संघीय न्यायालय में ‘चीनी वायरस’ कहने को लेकर मामला दायर

एक चीनी-अमेरिकी नागरिक अधिकार समूह ने संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विरुद्ध न्यूयॉर्क के एक संघीय न्यायालय में कोरोनावायरस को ‘चीनी वायरस’ कहने पर मुकदमा दायर किया है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, शिकायत में चीनी अमेरिकी नागरिक अधिकार गठबंधन (सीएसीआरसी) नामक समूह ने दावा किया है कि कोरोनावायरस की उत्पत्ति कहाँ हुई है, यह अभी तक निर्धारित नहीं किया गया है। ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप की ओर से ‘चीनी वायरस’ और इसी तरह के अन्य नस्लवादी शब्दों के प्रयोग निराधार हैं। इसने समुदाय को नुकसान पहुँचाया है।

शिकायत में कहा गया कि ट्रंप का आचरण चरम पर और अपमानजनक था। पूरी महामारी के दौरान यह अपमान इस बात को सोचे समझे बिना अविवेकपूर्ण तरीके से किया गया था कि ये चीनी-अमेरिकियों में भावनात्मक संकट पैदा करने की वजह बनेगा।

सीएसीआरसी की शिकायत में यह भी कहा गया, “ट्रंप ने जानबूझकर उन अपमानजनक शब्दों को अपने व्यक्तिगत और राजनीतिक हितों को साधने के लिए वास्तविक द्वेष और लापरवाही के आश्चर्यजनक स्तर के साथ दोहराया था। इस प्रक्रिया ने चीनी- एशियाई अमेरिकी समुदायों को गंभीर रूप से चोट पहुँचाई है।”

सीएसीआरसी ने मांग की है कि अमेरिका में रहने वाले प्रत्येक एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीप वासी को माफी के तौर पर एक डॉलर का भुगतान किया जाए, जो कुल मिलाकर 22.9 मिलियन डॉलर की राशि होगी।