समाचार
पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट आएँगे 100 देशों के राजनयिक, प्रधानमंत्री भी कर सकते दौरा

विदेश मंत्रालय (एमईए) की कोविड-19 कूटनीति को प्रमुख रूप से बढ़ावा देने के लिए 100 देशों के राजदूत और प्रतिनिध पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और जेनोवा बायोफार्मास्युटिकल लिमिटेड (जीबीएल) की सुविधाओं को देखने के लिए आगामी 4 दिसंबर को आने वाले हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, पहले वे 27 नवंबर को आने वाले थे। हालाँकि, बाद में कार्यक्रम को पुनर्निर्धारित कर दिया गया।

पुणे के संभागीय आयुक्त सौरभ राव के अनुसार, “यह संभव है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शहर का दौरा करें। प्रधानमंत्री की संभावित यात्रा का उद्देश्य कोविड-19 के वैक्सीन उम्मीदवार की स्थिति की समीक्षा करना और इसके प्रक्षेपण, उत्पादन और वितरण तंत्र के बारे में जानना होगा।”

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अब तक केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने कोवि​​ड-19 वैक्सीन के निर्माण के लिए 7 फर्मों को प्री-क्लिनिकल परीक्षण, जाँच और विश्लेषण के लाइसेंस की अनुमति दी है। इसमें एसआईआई और जीबीएल शामिल हैं।

दोनों में से एसआईआई दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता भी है। इसने एस्ट्रजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ अपनी वैक्सीन कोविशिल्ड के निर्माण के लिए भागीदारी की है।