समाचार
भाजपा के पाँच और नेताओं के ट्वीट छेड़छाड़ वाले बताए तो केंद्र ने ट्विटर को लिखा पत्र

केंद्र सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध आपत्ति व्यक्त की थी कि उसने टूलकिट पर भाजपा नेताओं के ट्वीट्स को तोड़-मरोड़ कर पेश किए गए मीडिया की श्रेणी में डाल दिया था। अब उसने शुक्रवार (21 मई) को पार्टी के पाँच अन्य सदस्यों के ट्वीट भी इसी श्रेणी में डाल दिए।

द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, राज्यसभा सांसद विनय सहस्रबुद्धे, पार्टी की राष्ट्रीय सोशल मीडिया प्रभारी प्रीति गांधी, आंध्र प्रदेश के सह प्रभारी सुनील देवधर, भाजपा मीडिया पैनलिस्ट चारू प्रज्ञा, भाजपा दिल्ली महासचिव कुलजीत सिंह चहल के सत्यापित खातों से पोस्ट किए गए ट्वीट्स को ट्विटर ने छेड़छाड़ के रूप में टैग कर दिया था।

कांग्रेस ने ट्विटर पर कथित रूप से गलत सूचना फैलाने के लिए भाजपा नेता के खातों को स्थायी रूप से निलंबित करने के लिए कहने के बाद शुक्रवार (21 मई) को माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ने भाजपा नेता संबित पात्रा के टूलकिट के खुलासे वाले ट्वीट को तोड़-मरोड़ कर पेश किए गए मीडिया के रूप में चिह्नित किया था।

हालाँकि, अब तक यह पता नहीं चला कि वह स्रोत क्या था, जिसके आधार पर निष्कर्ष निकाला गया था कि भाजपा नेता का टूलकिट वाला ट्वीट तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाने वाला था।

इस संबंध में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि उसने उठाए गए कदमों पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराते हुए ट्विटर की वैश्विक टीम को एक पत्र लिखा है।

मंत्रालय ने कहा कि स्थानीय कानून प्रवर्तन एजेंसी की इस मामले में एक पक्ष द्वारा दर्ज की गई शिकायत पर पहले से ही जाँच चल रही है। ट्विटर ने पुलिस की जाँच के पूरा होने की प्रतीक्षा किए बिना टूलकिट मामले में एकतरफा निष्कर्ष निकाल लिया है।