समाचार
जेएनयू- 2/3 छात्रों का छात्रावास और 95 प्रतिशत गैर-आवासी छात्रों का शिक्षा शुल्क जमा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने जानकारी दी कि छात्रावास में रहने वाले 6450 छात्र-छात्राओं में से लगभग 65 प्रतिशत ने छात्रावास के नए शुल्क का भुगतान कर दिया है।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, छात्रों के पास विलंब शुल्क दिए बिना छात्रावास के बकाए के भुगतान की अंतिम समय सीमा 17 जनवरी तक है। विश्वविद्यालय प्रशासन को भरोसा है कि आने वाले दिनों में छात्रों के वापस लौटने के साथ बकाए का भुगतान करने वालों की संख्या भी बढ़ेगी।

स्कॉलर्स के लिए सेमेस्टर शुल्क की अनुपालन दर भी अधिक है। हालाँकि, उनमें से 95 प्रतिशत ने अपनी सेमेस्टर राशि का भुगतान कर दिया है।

वामपंथी जेएनयूएसयू के नेतृत्व में फीस बढ़ोतरी को लेकर आंदोलन और बहिष्कार के बावजूद विश्वविद्यालय के वीसी जगदीश कुमार ने कहा, “स्कूलों और केंद्रों ने अपनी समय-सारणी की घोषणा कर दी है। उन छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित की जा रही है, जिन्होंने पिछले सत्र की शैक्षणिक आवश्यकताओं को पूरा नहीं किया था।”

उन्होंने कहा, “विश्वविद्यालय में छात्रों के शैक्षणिक हितों को संबोधित करने और उन्हें बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।”

उधर, जेएनयूएसयू ने इस बीच जेएनयू शुल्क वृद्धि को कानूनी रूप से चुनौती देने का फैसला किया है और छात्रों से पंजीकरण प्रक्रिया का बहिष्कार करने की अपील की है।