समाचार
भारतीय वायुसेना पहली बार यूएई संग फारस की खाड़ी में करेगी ‘डेज़र्ट फ्लैग’ युद्धाभ्यास

एक प्रमुख विकास में भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ‘डेज़र्ट फ्लैग’ सैन्य अभ्यास में भाग लेने के लिए तैयार है, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस), फ्रांस, दक्षिण कोरिया, संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब और बहरीन शामिल हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि रणनीतिक रूप से फारस की खाड़ी क्षेत्र में एक प्रमुख बहुराष्ट्रीय वायु युद्धाभ्यास में भाग लेने के लिए भारत का पहला मौका होगा। अभ्यास यूएई में होगा। इसमें लड़ाकू विमान और कई तरह के हैवी ड्यूटी वाले एयरलिफ्ट विमान शामिल किए जाएँगे।

अभ्यास के लिए भारतीय वायुसेना (आईएएफ) छह सुखोई-30 मार्कआई लड़ाकू जेट और दो सी-17 ग्लोबमास्टर-3 विमानों के साथ 125 लोगों की टुकड़ी भेजेगा।

यह गौर किया जाना चाहिए कि अभ्यास में भाग लेने वाले लड़ाकू जेट विमानों में रूसी सुखोई, अमेरिकी एफ-15 व एफ-16, फ्रेंच डसॉल्ट राफेल्स और मिराज-2000 शामिल होंगे।

संयुक्त अरब अमीरात के अल धफरा एयरबेस में तीन सप्ताह तक चलने वाले इस अभ्यास का समन्वय एयर वारफेयर सेंटर द्वारा किया जाएगा। अभ्यास में पर्यवेक्षक के रूप में ग्रीस, जॉर्डन, कुवैत और मिस्र भी शामिल होंगे।