समाचार
रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की उठी मांग, ग्रामीणों ने जाम किया राष्ट्रीय राजमार्ग-11

दिल्ली हिंसा में मारे गए हेड कांस्टेबल रतन लाल का पार्थिव शरीर बुधवार को राजस्थान में उनके पैतृक गाँव तिहावली लाया जाएगा। इससे पहले ही ग्रामीणों ने उन्हें शहीद का दर्जा देने की मांग उठा दी है। इसको लेकर राजस्थान सीकर फतेहपुर के सदिनसर गाँव के ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग-11 जाम कर दिया है।

राजस्थान पत्रिका की रिपोर्ट के अनुसार, हाइवे जाम होने के बाद इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित हो गई है। पुलिस ने मौके पर पहुँचकर ग्रामीणों को समझाना शुरू कर दिया है।

रतनलाल का पार्थिव शरीर मंडावा पहुँच गया है। उसे मंडावा थाने में रखा गया है। कुछ देर में पार्थिव शरीर तिहावली ले जाया जाएगा। फतेहपुर विधायक हाकम अली ने कहा, “मुख्यमंत्री से बात कर रतनलाल को शहीद का दर्जा देने की मांग की गई है।”

सदिनसर गाँव के ग्रामीणों ने नेशनल हाइवे-11 को पूर तरह जाम कर दिया है। ग्रामीण सदिनसर गाँव के पास डेरा जमाए बैठे हैं। ग्रामीण शव लेने से भी इनकार कर रहे हैं। अभी तक उन्होंने शव नहीं लिया है।