समाचार
दिल्ली दंगे- 15 के खिलाफ एक और आरोप-पत्र दायर, कमिश्नर ने की निष्पक्ष जाँच की बात

दिल्ली दंगों को लेकर पुलिस की स्पेशल सेल ने 15 आरोपियों के खिलाफ बुधवार को विभिन्न धाराओं के तहत कड़कड़डूमा न्यायालय में 15,000 से अधिक पन्नों का एक और आरोप-पत्र दायर किया।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, इसमें उमर खालिद और शरजील इमाम का नाम नहीं है। उन्हें कुछ दिन पहले गिरफ्तार किया गया था। उनका नाम सप्लीमेंट्री आरोप-पत्र में होगा।

दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने कहा था, “उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों की जाँच पूरी होने के करीब है। जिनकी जाँच की जा रही है, उनमें कुछ की काफी अच्छी सोशल मीडिया मौजूदगी है। उमर खालिद को गिरफ्तार किया जा चुका है।”

उन्होंने कहा, “दंगों के संबंध में कुल 751 मामले दर्ज किए हुए हैं, जिनकी जाँच चल रही है। 751 में से 340 मामलों को सुलझा लिया गया, जबकि बाकी में पुलिस को ज्यादा सुराग नहीं मिले। 751 में से एक मामला मूल रूप से साजिश के संबंध में है, जिसे क्राइम ब्रांच ने दर्ज किया है। हालाँकि, इसे स्पेशल सेल में स्थानांतरित कर दिया गया है। अन्य 59 महत्वपूर्ण मामलों में से तीन एसआईटी को दिए थे। 59 में से 46 को सुलझा लिया गया है। साथ ही इन सभी में आरोप पत्र दाखिल कर दिए गए हैं।”

उधर, सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी जूलियो रिबेरो ने पत्र लिखकर दंगे की जाँच ठीक से न होने की बात को लेकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव को पत्र लिखा था। इसके जवाब में कमिश्नर ने लिखा, “751 मामले इसलिए दर्ज किए गए, ताकि दंगों की जाँच ठीक से हो सके। हम जाति या धर्म के आधार पर एफआईआर में भेदभाव नहीं करते। सिर्फ 410 मामले अल्पसंख्यकों की शिकायत पर दर्ज हुए। बाकी 190 दूसरे समुदायों के आधार पर दर्ज हुए। बाकी कुछ मामले डेली डायरी एंट्री के आधार पर दर्ज किए गए थे।”