समाचार
आप नेता ताहिर हुसैन के घर पर भीड़ द्वारा हमले के दावे को दिल्ली पुलिस ने किया खारिज

दिल्ली पुलिस ने मंगलवार (4 मार्च) को हिंसा भड़काने के आरोप में निलंबित चल रहे आम आदमी पार्टी (आप) के पार्षद ताहिर हुसैन के दावों को खारिज कर दिया है। आप नेता हुसैन का कहना था कि पुलिस ने दंगे के दौरान उसे घर से सुरक्षित निकालकर बचाया था।

इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या में उनकी भूमिका को लेकर लग रहे आरोप के बाद आप नेता हुसैन ने दावा किया था कि दंगों के दौरान भीड़ उनके घर में जबरन घुस आई थी और वो उनके घर की छत पर एकत्रित हो गई थी। यह देखने के बाद उन्होंने पुलिस को मामले की जानकारी दी थी, जिसने उन्हें और उनके परिवार को वहाँ से निकालकर दूसरे सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया था।

हालाँकि, दिल्ली पुलिस ने एक बयान में दावा किया, “उन्हें 24-25 फरवरी की रात को पार्षद के घर में दंगाइयों के घुसने के बाद उनके फंसने की खबर मिली थी। बाद में जाँच में पाया गया था कि वह अपने घर में सुरक्षित थे।”

हुसैन के घर की छत से हिंसा करने वाले उपद्रवियों को पथराव करते और पेट्रोल बम से विस्फोट करते हुए कई वीडियो में कैद किया गया है। अंकित शर्मा के परिवार ने हुसैन पर आईबी अधिकारी की हत्या की साजिश का हिस्सा बनने का आरोप लगाया है।