समाचार
दिल्ली में 800 से अधिक विदेशी तबलीगी जमात कार्यकर्ता मस्जिदों में छिपे मिले

स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ताओं, सिविल सेवकों और पुलिस की संयुक्त टीमों ने 800 से अधिक विदेशी तबलीगी जमात के सदस्यों को चिह्नित कर पकड़ा है, जो दिल्ली की विभिन्न मस्जिदों में छिपे हुए थे। शुरुआत में 187 विदेशी सदस्यों की संख्या का अनुमान लगाया जा रहा था, जिसके आँकड़े अब चौंकाने वाले निकल रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने 31 मार्च को केजरीवाल सरकार को एक आवश्यक सूचना भेजकर यह तलाशी अभियान शुरू किया था। इसके बाद दिल्ली पुलिस, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और दिल्ली प्रशासन के अन्य सरकारी सेवकों की एक संयुक्त टीम ने शहर की विभिन्न मस्जिदों में जमात के बाकी सदस्यों की तलाश शुरू की।

चार दिन के अंदर में इन टीमों ने बड़ी संख्या में राजधानी की मस्जिदों में अभियान चलाया। इसमें 800 से अधिक तबलीगी जमात के विदेशी सदस्यों को चिह्नित कर पकड़ा गया।

अधिकारियों को भय है कि इनमें से कई में कोविड-19 के सकारात्मक परीक्षण आ सकते हैं, जिन्होंने कई अन्य लोगों को भी इससे संक्रमित कर दिया हो। अधिकारियों को लगता है कि अभी वो और अधिक ऐसे लोगों की खोज कर सकते हैं।

जमात के कार्यकर्ताओं को दिल्ली भर के विभिन्न सरकारी सुविधाओं वाले पृथक केंद्रों में रखा गया है। हालाँकि, जो अलग-अलग मस्जिदों में छिपे हुए पाए गए थे, उनका परीक्षण होना अभी बाकी है। उनकी जाँच रविवार (5 अप्रैल) से शुरू होने की उम्मीद है।

बता दें कि तबलीगी जमात दिल्ली के निज़ामुद्दीन क्षेत्र में स्थित एक धार्मिक संप्रदाय है। इसकी एक धार्मिक सभा 15 से 18 मार्च के बीच आयोजित की गई थी। इसमें शामिल कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों ने इसके देश में कुल मामलों में अपना एक बड़ा हिस्सा जोड़ दिया है।