समाचार
दिल्ली में विश्व स्तरीय मेडिकल संस्थान के साथ हरियाणा में भी होगा नया एम्स

बुधवार (28 फरवरी) को हुई कैबिनेट की बैठक में हरियाणा में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को बनाने की मंज़ूरी मिल गई है। हरियाणा के रेवाड़ी जिले में 1299 करोड़ रुपये की लगत से एक नए एम्स को बनाया जाएगा जिसमें एमबीबीएस की 100 सीटें और स्नातक नर्सिंग कोर्स की 60 सीटें होंगी।

साथ ही आयुष ब्लॉक, हॉस्टल, सभागार जैसी अन्य सुविधएँ भी होंगी। इसके साथ-साथ नए संस्थान में 750 बिस्तर की क्षमता वाला अस्पताल होगा जिनमें आपातकालीन बिस्तर, निजी बिस्तर, आयुष बिस्तर शामिल हैं। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने बैठक में लिए फैसले को बताते हुए कहा, “प्रत्येक नए एम्स में 1500 रोगी विभागों को पूरा करने की उम्मीद है।”

हरियाणा में एम्स बनने के साथ-साथ दिल्ली में स्थापित एम्स को विश्व स्तरीय मेडिकल विश्वविद्यालय बनाने का फैसला भी लिया गया है। एम्स दिल्ली को भारत का सर्श्रेष्ठ अस्पताल माना जाता है और अब इस अस्पताल को एक स्तर और ऊपर बढ़ाया जायेगा।

एम्स दिल्ली को पूर्ण रूप से स्वास्थ्य सेवाओं का केंद्र बनाया जाएगा जिसमें उन्नत शोध के लिए भी जगह दी जाएगी। दिल्ली एम्स को एकीकृत परिसर बनाने का उद्देश्य है जिसमें सभी प्रकार के रोगियों की जाँच, फिजियोथेरेप्यूटिक, ऑपरेटिव, पुनर्वास और व्यावसायिक आवश्यकताओं का केंद्र बनाए जायेंगे।  

कैबिनेट बैठक में लिये गए फैसले से भारत की स्वास्थ्य सेवाओं में वृद्धि होगी और लोगों को चिकित्सा के लिए पूर्ण रूप से विस्तृत अस्पताल की सुविधा प्राप्त होगी।