समाचार
“सकारात्मक रहा रूस दौरा, समय पर रक्षा अनुबंध पूरा होने का मिला भरोसा”- रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “वह अपने रूस दौरे से पूरी तरह संतुष्ट हैं। उनकी चर्चा सकारात्मक रही है। हमें यह आश्वासन मिला है कि पूर्व से जारी रक्षा अनुबंध न सिर्फ बरकरार रहेगा बल्कि उसे जल्द पूरा भी किया जाएगा।”

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, राजनाथ सिंह ने कहा, “कोविड-19 के बाद विदेश का मेरा पहला आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल का दौरा है। यह भारत और रूस के बीच विशेष संबंध को दर्शाता है।”

रक्षा मंत्री ने रूस के उप-प्रधानमंत्री वाई इवानोविच बोरिसोव से मॉस्को में मुलाकात की। साथ ही रक्षा सचिव अजय कुमार ने रूस के उप रक्षा मंत्री कर्नल जनरल अलेक्जेंडर वी फोमिल से भेंट की।

राजनाथ सिंह ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धाँजलि अर्पित की थी। उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में मारे गए रूसी सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। वहीं, भारत ने चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स की उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है, जिसमें यह कहा गया था कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को मास्को में अपने चीनी समकक्ष से मिल सकते हैं।

रूस ने भारत और चीन के बीच दखलंदाजी से इनकार कर दिया। रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत-रूस-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक के दौरान एक तरफ जहाँ भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य के तौर पर बनने का समर्थन किया। वहीं, कहा कि उन्हें नहीं लगता कि भारत-चीन विवाद में किसी तीसरे पक्ष की जरूरत है।