समाचार
दाऊद का गुर्गा भारत भेजता था जाली नोट और नकली सोना, काठमांडू से हुआ गिरफ्तार

दाऊद इब्राहिम के गुर्गे अल्‍ताफ हुसैन अंसारी को नेपाल पुलिस ने काठमांठू से गिरफ्तार किया। वह साल 2011 में करीब 55 लाख के जाली भारतीय नोटों की बरामदगी के मामले में फरार था। उसने पूछताछ में भारत में जाली नोट व सोने की सप्‍लाई के नेटवर्क के बारे में बताया।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, दाऊद के गुर्गे की गिरफ्तारी की जानकारी नेपाल के पर्सा जिला पुलिस नियंत्रण कक्ष ने दी। उसे तीन दिन पूर्व गिरफ्तार किया गया था। उसे गुप्त स्थान पर सख्त सुरक्षा के बीच रखकर पूछताछ की जा रही है।

पर्सा जिला के एसपी गंगा पंत ने बताया, “वह नेपाल के बारा जिले के हरपुर का है। उसने बिहार सीमावर्ती नेपाली नगर वीरगंज को ठिकाना बना रखा था।” उसने नकली सोने और जाली नोट से भारतीय अर्थव्यवस्था को तबाह करने की आईएसआई साजिश का भी खुलासा किया।

अल्ताफ ने बताया, “वह अहमदाबाद के संजय पटेल और नीलेश शाक्या के साथ भारत के विभिन्न हिस्सों में नकली सोने की सप्लाई करता था। जाली नोट और नकली सोने के कारोबार में नेपाल में पाकिस्तानी दूतावास और आईएसआई मदद करते थे। इनमें हवाला का पैसा लगा था।”

अल्ताफ हुसैन भारत में जाली नोट की सप्लाई नेपाली तस्‍कर यूनुस अंसारी संग करता था। गत 24 मई 2019 को काठमांडू कि त्रिभुवन एयरपोर्ट पर 7.67 करोड़ के जाली भारतीय नोट के साथ जिन छह लोगों को पकड़ा गया था। उनमें एक महिला समेत तीन पाकिस्तानी और तीन नेपाल के नागरिक थे। पकड़े गए लोगों में यूनुस अंसारी भी था, जबकि उस वक्‍त अल्ताफ फरार हो गया था।

फिर अल्‍ताफ ने कुछ दिनों तक जाली नोट के कारोबार को बंदकर नकली सोने का कारोबार शुरू किया। इसी दौरान उसके सम्पर्क में संजय पटेल और नीलेश शाक्या आए। तीनों मिलकर मुंबई और गुजरात में कई बार नकली सोने की सप्लाई कर चुके हैं।