समाचार
दलित बालिकाओं से छेड़छाड़ के मामले में परवेज़, फैज़ान समेत 12 आरोपियों पर रासुका

आज़मगढ़ में दलित बालिकाओं के साथ छेड़छाड़ के मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 लोगों को गिरफ्तार करने के साथ उनपर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाया है। इससे पहले जौनपुर में भी दलितों के साथ मारपीट और घर जलाने वाले आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई थी।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कई दिनों से दलित बालिकाओं के साथ हो रही छेड़छाड़ का संज्ञान लिया और शुक्रवार (12 जून) को उनके निर्देश पर महाराजगंज थाना प्रभारी को निलंबित किया गया। परवेज़, फैज़ान, नूर आलम और सदरे आलम समेत 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

फरार चल रहे सात आरोपियों पर 25-25,000 रुपये के पुरस्कार की घोषणा पुलिस अधीक्षक (एसपी) ने की है। इसके अलावा योगी आदित्यनाथ ने सांप्रदायिक और जातीय घटनाओं पर इंस्पेक्टर के साथ सीओ पर कार्रवाई एवं एसपी-एससपी के उत्तरदायी होने की बात कही, दैनिक जजागरण ने रिपोर्ट किया।

उपरोक्त आरोपी ट्यूबवेल पर पानी लेने जाने वाली दलित बालिकाओं के साथ छेड़छाड़ करते थे। इसका विरोध करने पर उन्होंने लड़कियों व उनके परिवार को पीटा भी था। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अनुसूचित बस्ती पर लाठी-डंडे व धारदार हथियारों से हमला बोला था।

इस हमले में दर्जन भर लोग घायल हुए थे और पीड़ित पक्ष के विनोद के कहने पर परवेज़, फैज़ान, नूर आलम, सदरे आलम, आरिफ, आमीर, आशीफ, अल्तमस, सुहेल व कुछ अनामित लोगों पर मामला दर्ज किया गया था।