समाचार
चक्रवात वायु से निपटने को सेना और एनडीआरएफ तैयार, 13 को गुजरात पहुँचने की आशंका

अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान वायु के 13 जून को गुजरात के तटीय इलाकों पोरबंदर और कच्छ क्षेत्र में पहुँचने की आशंका है। इस स्थिति से निपटने और करीब तीन लाख लोगों को रेस्क्यू कराने के लिए एनडीआरएफ और सेना ने तैयारी कर ली है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ में मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है। वायु का असर महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोवा में भी पड़ने की आशंका है।

रेस्क्यू के लिए राज्य सरकार ने सेना की 10 टुकड़ी को पश्चिमी तट पर तैनात किया है। जामनगर, गिर, द्वारका, पोरबंदर, सोमनाथ, मोरबी, भावनगर, राजकोट और अमरेली में सेना को लगाया गया है। राहत और बचाव कार्य में मदद के लिए सेना की 24 टुकड़ियों को तैयार रहने को कहा गया है।

गुजरात में वायु चक्रवात की रफ्तार 110 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। इसका समुद्र तट से टकराने का स्थान सौराष्ट्र तट के करीब होने का अनुमान है। चक्रवात अपनी वर्तमान स्थिति से पोरबंदर और महुवा के बीच बढ़ रहा है।

तूफान से सबसे अधिक कच्छ, देवभूमि, द्वारका, पोरबंदर, राजकोट, जूनागढ़, दीव, गिर, सोमनाथ, अमरेली और भावनगर जिलों में नुकसान का अनुमान है। इस बाबत गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को उच्चस्तरीय बैठक की थी। गुजरात के साथ ही केंद्र शासित प्रदेश दीव के लिए भी एडवाइज़री जारी की गई है।