समाचार
कोविड-19- रेलवे द्वारा विकसित पीपीई के दो नमूनों को डीआरडीओ से मिली स्वीकृति

कोविड-19 महामारी के खिलाफ दिन-रात काम में लगे चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा कर्मचारियों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) की आपूर्ति बढ़ाने को लेकर एक सकारात्मक खबर आई है। उत्तर रेलवे कार्यशाला द्वारा विकसित किए गए पीपीई के दो नमूनों को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) से स्वीकृति मिल गई है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, दो नमूनों का परीक्षण ग्वालियर की डीआरडीओ प्रयोगशाला में किया गया था। इसमें खून या शरीर के तरल पदार्थ के प्रवेश के लिए जैव-सुरक्षात्मक आवरण कपड़े के प्रतिरोध की जाँच की गई थी।

डीआरडीओ से स्वीकृति मिलने के बाद उत्तर रेलवे अब इनको बनाने की शुरुआत करने के लिए तैयार है। इनका उपयोग भारतीय रेलवे के अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों का इलाज कर रहे चिकित्सक करेंगे।

वर्तमान में उत्तर रेलवे एक दिन में 20 पीपीई का उत्पादन कर रहा है। यह आँकड़ा एक सप्ताह में एक दिन में 100 इकाइयों तक जाने के लिए निर्धारित है। रेलवे बोर्ड पहले ही जोनल रेलवे को पीपीई का उत्पादन लेने के निर्देश जारी कर चुका है।