समाचार
सोहराबुद्दीन फर्ज़ी एनकाउंटर का साक्ष्य नहीं, कोर्ट ने बरी किया आरोपियों को

सीबीआई की विशेष अदालत ने सोहराबुद्दीन शेख-तुलसीराम प्रजापति एनकाउंटर मामले में सभी 22 आरोपियों के बरी कर दिया है। मुंबई में हुई इस सुनवाई में न्यायालय ने अपर्याप्त साक्ष्य की बात कहकर मामले का निर्णय सुनाया।

विशेष सीबीआई अदालत के जज ने कहा कि षड्यंत्र और हत्या सिद्ध करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य उपलब्ध नहीं थे। कोर्ट ने यह भी कहा कि परस्थितिजन्य साक्ष्य ठोस नहीं थे। न्यायालय ने जोड़ा कि यह असत्य है कि तुलसीराम प्रजापति की हत्या किसी षड्यंत्र के तहत हुई।

बताया जा रहा है कि 210 गवाहियाँ हुई थीं लेकिन सभी गवाह प्रतिरोधात्मक थे। कोर्ट ने कहा कि यदि गवाह नहीं बोलते हैं तो इसका दोष प्रॉसिक्युटर को नहीं दिया जा सकता।

न्यायाधीश एसजे शर्मा ने खुद को ठोस साक्ष्यों और भरोसेमंद गवाहों की अनुपलब्धि में खुद को असहाय बताकर सभी 22 आरोपियों को दोषमुक्त कर दिया।

यह भी पढ़ें- कोर्ट में ख़ारिज किये गए आरोपों को जीवित करने की कांग्रेस की विफल साज़िश