समाचार
‘हाथी’ का बोझ मायावती पर, मूर्ति निर्माण के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय ने की मांग

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती को सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार (8 फरवरी) को झटका देते हुए राज्य में मूर्तियों के निर्माण पर व्यय हुई राशि को लौटाने की मांग की है।

उनके द्वारा सार्वजनिक रुपये के खर्च के नियंत्रण के संबंध में दायर की गई याचिका में यह निर्णय सामने आया है। हालाँकि मायावती का कहना है कि ये मूर्तियाँ बसपा के शुभचिंतकों के दान के पैसों से बनाई गई हैं। मुख्य न्यायाधीश 2 अप्रिल को इस मामले की सुनवाई करेंगे।

अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल में मायावती ने 2007 से 2011 के बीच में मूर्तियों और उद्यानों के निर्माण में लगभग 2,600 करोड़ रुपये व्यय किए थे, जी न्यूज़  ने बताया। सतर्कता विभाग की एक शिकायत में कहा गया कि इससे राजकोष में 111 करोड़ रुपए का घोटा हुआ था। इस संबंध में 2015 में सर्वोच्च न्यायालय ने उनसे इन निर्माण कार्यों में अनुमानित व्यय के ब्यौरे की मांग की थी। इसी संदर्भ में प्रवर्तन निदेशालय ने लखनऊ के कई स्थानों में छापा भी मारा था।