समाचार
लखनऊ- सीएए विरोधी महिला बोली, “कोरोना कुरआन से आया, हमें कुछ नहीं होगा”

लखनऊ में कोरोनावायरस के तेजी से बढ़ते संदिग्धों के बावजूद सीएए विरोधी प्रदर्शनकारी अपना धरना समाप्त न करने पर अड़े हुए हैं। घंटाघर में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध को लेकर एक प्रदर्शनकारी महिला ने एक चैनल से कहा, “कोरोना कुरआन से आया है और यह वायरस प्रदर्शनकारियों को नुकसान नहीं पहुँचाएगा।”

महिला ने लखनऊ सिटी लाइव चैनल के एक पत्रकार से कहा, “कोरोना हमारे कुरआन से निकला है। कोरोना माने कुरआन और वो उसी से निकला है। अभी यह कोरोना क्या है। अभी इससे भयानक-भयानक बीमारियाँ आएँगी। ऊपरवाले ने चाहा तो हमें कुछ नहीं होगा। हम लोग डरने वाले नहीं हैं।”

महिला ने आगे कहा, वे खुद कोरोना (नागरिकता संशोधन अधिनियम) लाए थे, जिसके दम पर वे अब हमें हटाना चाह रहे हैं। हमें जब तक इस कानून से आज़ादी नहीं मिलती है, तब हम विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे। हमने यह कसम खाई है।

उधर, दिल्ली के शाहीन बाग में भी संयोग से प्रदर्शनकारियों ने पुलिस और जनता की अपील के बावजूद अपना विरोध जारी रखा है। अब अदालत में एक जनहित याचिका दाखिल करके विरोध स्थल से प्रदर्शनकारियों को हटाने की कवायद जारी है।