समाचार
एएमयू में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में मुंबई हवाई अड्डे से डॉक्टर कफील गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने बुधवार (29 जनवरी) रात मुंबई हवाई अड्डे पर डॉक्टर कफील खान को गिरफ्तार किया। उन पर एक माह पूर्व अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने का आरोप है।

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, निलंबित डॉक्टर खान को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को लेकर मुंबई सेंट्रल पर स्थानीय महिलाओं द्वारा चल रहे विरोध प्रदर्शन में गुरुवार सुबह 11 बजे पहुँचना था।

उन्हें एसटीएफ ने हवाई अड्डे पर उतरते ही हिरासत में ले लिया। वहाँ से उन्हें सहर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, “एसटीएफ आरोपी को आगे की जाँच के लिए यूपी ले जाएगी।”

2017 में गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 60 बच्चों की मौत के बाद सुर्खियों में आए डॉक्टर खान को कथित रूप से 2019 में एएमयू में भड़काऊ भाषण देने के लिए हिरासत में लिया गया।

अलीगढ़ के पुलिस अधीक्षक अभिषेक ने कहा, “आरोपी के खिलाफ 13 दिसंबर को सिविल लाइंस थाने में आईपीसी की धारा 153-ए (धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) के तहत मामला दर्ज हुआ था।”

डॉक्टर कफील ने अपने भाषण में कहा था, “मोटा भाई हर किसी को हिंदू या मुसलमान बनना सिखा रहे हैं पर इनसान नहीं। आरएसएस के अस्तित्व में आने के बाद से वह संविधान में विश्वास नहीं रखता है। सीएबी मुसलमानों को दूसरी श्रेणी का नागरिक बनाता है। बाद में उन्हें एनआरसी के तहत परेशान किया जाएगा।”

उन्होंने आगे कहा, “यह लड़ाई हमारे अस्तित्व के लिए है। हमें लड़ना होगा। आरएसएस के स्कूलों में छात्रों को सिखाया जा रहा कि जिनकी दाढ़ी है, वे आतंकी हैं। सीएबी के जरिए सरकार ने हमें बताया है कि भारत हमारा देश नहीं है।”