समाचार
जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे लिए स्विस कंपनी संग अनुबंध, 2023-24 से उड़ानें होंगी शुरू

गौतमबुद्ध नगर में बनने वाले एशिया के सबसे बड़े जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए बुधवार को महत्वपूर्ण अनुबंध किया गया। स्विस कंपनी ज़्यूरिक एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी और यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड – नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के बीच रियायत समझौते पर हस्ताक्षर हुआ।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, जेवर एयरपोर्ट पूरी तरह डिजिटल होगा और 2023-2024 से इससे उड़ान शुरू हो जाएँगी।

अनुबंध पर हस्ताक्षर के लिए स्विस कंपनी के बड़े अधिकारी दिल्ली पहुँचे। अनुबंध के तहत दो महीने में ज़्यूरिक एयरपोर्ट इंटरनेशनल को जेवर एयरपोर्ट परियोजना का मास्टर प्लान जमा करना होगा। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से भी राज्य समर्थन अनुबंध किया जाएगा।

गौतमबुद्धनगर की जेवर तहसील में पहले चरण की परियोजना के लिए 1332 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहित कर ली गई है और प्राधिकरण ने इसका कब्ज़ा भी ले लिया। रियायत समझौते के बाद एक महीने में डेवलेपर को भूमि पर भौतिक कब्ज़ा दे दिया जाएगा। इसके बाद ज़्यूरिक एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी हवाई अड्डे के लिए पहले चरण का निर्माण कार्य शुरू कर देगी।

चार चरणों की इस परियोजना पर कुल लागत 29,560 करोड़ रुपये आएगी। पहले चरण में दो रनवे बनेंगे। इन्हें 2023 से चालू करने की योजना है। माना जा रहा कि वर्ष 2023-27 के बीच इस एयरपोर्ट पर 1.2 करोड़ यात्री प्रति वर्ष यहाँ आएँगे।