समाचार
कांग्रेस ने लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष पद का दावा किया, बताया “तकनीकी रूप से योग्य”

लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के सांसद कोडिकुन्नील सुरेश ने मंगलवार (2 जुलाई) को अपनी पार्टी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार से विपक्ष के नेता के पद पर आसीन होने के लिए कहा है।

द हिंदू  की रिपोर्ट के अनुसार, सुरेश ने कहा, “कांग्रेस लोकसभा में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के नेता के रूप में उभरी है। उसके पास कुल 92 सीटें हैं। इस वजह से पार्टी तकनीकी रूप से इस पद के लिए योग्य थी।”

सुरेश ने यह भी कहा, “अगर प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष के महत्व पर कही गई बातों के प्रति ईमानदार हैं तो उन्हें कांग्रेस को यह स्थान देना चाहिए और उप-सभापति का पद किसी दूसरे विपक्षी दल को दे देना चाहिए।”

रिपोर्ट के अनुसार, 18 जून को 17वीं लोकसभा के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि संसदीय लोकतंत्र में विपक्ष की जीवंतता, न कि संख्या महत्वपूर्ण होती है।

हालाँकि, यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि नियमों के अनुसार, विपक्ष का नेता वही बन सकता है, जिसके पास लोकसभा की कुल सीटों की संख्या के दसवें हिस्से के बराबर सांसद हों। लोकसभा के कुल सदस्यों की संख्या 545 है इसलिए केवल 55 से अधिक सदस्यों वाली पार्टी ही विपक्ष बनने की हकदार हो सकती है, जबकि कांग्रेस सिर्फ 52 सीटें ही जीती ही थी।