समाचार
नवजोत सिंह सिद्धू पर चुनाव परिणाम के बाद होगी कार्रवाई, कांग्रेस नेता विरोध में

कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के उल्टे-सीधे बयानों के बाद अब उनपर कार्रवाई होनी तय मानी जा रही है। कांग्रेस पंजाब मामलों के प्रभारी आशा कुमारी ने बताया, “सिद्धू पर कार्रवाई ज़रूर होगी लेकिन लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद।”

दैनिक भास्कर  की रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब कांग्रेस के ज्यादातर मंत्री उनके विरोध में आ गए हैं। उन्होंने सिद्धू पर कार्रवाई की माँग की है। कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा, तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, साधू सिंह धर्मसोत ने कहा, “अगर उन्हें कोई नाराज़गी है तो इस बारे में कैबिनेट बैठक में बात करनी चाहिए न कि सार्वजनिक रूप से बयान देने चाहिए।”

आशा कुमारी ने कहा है, “प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ से सिद्धू को लेकर रिपोर्ट माँगी गई है। उनके बयानों से पार्टी की छवि धूमिल हुई है। मामला राहुल गांधी के संज्ञान में भी है। उन पर कार्रवाई लोकसभा चुनावों के परिणाम आने के बाद होगी।”

हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने कहा, “सिद्धू को उनके ही नेता पार्टी से बाहर निकालने में जुटे हैं। उनके पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से अच्छे संबंध हैं। वह वहाँ जाकर तहरीक-ए-इनसाफ पार्टी में शामिल हो जाएँ।

नवजोत सिंह सिद्धू की अपनी ही पार्टी के प्रति नाराज़गी की कई वजहें हैं। वह पत्नी को चंडीगढ़ से लोकसभा सीट का टिकट दिलवाना चाहते थे लेकिन ऐन वक्त पर पूर्व रेल मंत्री पवन बंसल को टिकट दे दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया था कि अमरिंदर और आशा कुमारी की वजह से उनका टिकट कट गया।

वह इस बात पर भी नाराज़ थे कि उन्हें देशभर में प्रचार करने का मौका दिया गया लेकिन पंजाब से दूर रखा गया। आखिर में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने साफ कर दिया था कि सिद्धू उनकी जगह मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। इसके बाद पार्टी के अंदर विरोध और बढ़ गया।