समाचार
राहुल गांधी के त्यागपत्र पर निर्णय नहीं, विधानसभा चुनाव की तैयारियाँ अधर में

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में संगठन में ज़रूरी बदलावों के लिए प्रस्ताव पारित होने के दस दिन बाद भी स्थिति साफ नहीं हो पाई है। ऐसे में पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की ओर से भ्रम की स्थिति को खत्म करने की माँग उठ रही है।

हिंदुस्तान टाइम्स  की रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर-नवंबर में तीन राज्यों महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में विधासभा चुनाव होने हैं। भ्रम की स्थिति रहने पर चुनाव वाले राज्यों के प्रभारी कोई भी निर्णय नहीं ले पा रहे हैं।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में बदलावों पर सहमति बन गई थी लेकिन यह कब होगा अभी तक साफ नहीं हो पाया है। इसका असर चुनावी तैयारियों पर पड़ रहा है। पार्टी को जल्द ही भ्रम की स्थिति को खत्म करना चाहिए।”

लोकसभा चुनाव में हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड में कांग्रेस का खराब प्रदर्शन रहा था। हरियाणा में पार्टी का खाता नहीं खुला और महाराष्ट्र व झारखंड में उसे एक-एक सीट ही मिली थी।

संभावना यह भी जताई जा रही है कि 2014 में महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी ने अलग-अलग लड़ा था लेकिन इस बार दोनों के गठबंधन के साथ चुनाव लड़ने की उम्मीद है। दोनों के बीच आधी-आधी सीट पर समझौता हो सकता है।