समाचार
उत्तर प्रदेश- 130 को क्षतिपूर्ति नोटिस, मेरठ पुलिस ने जारी किया हिंसक भीड़ का वीडियो

उत्तर प्रदेश में सीएए को लेकर हुए विरोध प्रदर्शन और हिंसा में राज्य के 130 लोगों को नोटिस भेजा गया। अब इनसे क्षतिपूर्ति के रूप में 50 लाख रुपये वसूले जाएँगे। नोटिस में साफ है कि ऐसा ना करने पर उनकी संपत्ति जब्त होगी। वहीं, पुलिस ने मेरठ का वीडियो जारी किया। इसमें पुलिस पर हमला और गोलीबारी करने वाली भीड़ दिखाई दे रही है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, रामपुर में प्रशासन ने 28, संभल में 26, बिजनौर में 43 और गोरखपुर में 33 लोगों को नोटिस भेजा। हिंसा के दौरान रामपुर में करीब 14.8 लाख रुपये, संभल में 15 लाख और बिजनौर में 19.7 लाख का नुकसान हुआ। गोरखपुर में नुकसान का आँकलन हो रहा है। प्रशासन का कहना है, “केवल उन्हीं को नोटिस भेजा है, जो वीडियो फुटेज में पत्थर फेंकते या संपत्ति को नुकसान पहुँचाते दिखे हैं।”

उधर, हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस द्वारा जारी की गई वीडियो की शृंखला में दो पुरुषों को 20 दिसंबर को मेरठ में हिंसक विरोध प्रदर्शन के दौरान फायरिंग करते देखा जा सकता है।

नीली जैकेट में एक नकाबपोश बंदूक लेकर घूमते और पुलिस पर गोलीबारी करते देखा गया। प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच संघर्ष में राज्य में अब तक 18 लोग मारे गए। मेरठ में सबसे ज्यादा 6 मौतें हुईं। पुलिस पर लगाए जा रहे आरोपों को गलत साबित करने के लिए वीडियो जारी किया गया। पुलिस ने स्वीकार किया कि आत्मरक्षा के दौरान पुलिस की गोली से सिर्फ बिजनौर में एक की मौत हुई थी।

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने पिछले सप्ताह कहा था, “पुलिस ने उन स्थानों से 500 करोड़ के प्रतिबंधित कारतूस जब्त किए हैं, जहाँ हिंसा हुई थी। 21 जिलों में भड़की हिंसा में 288 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। उनमें 62 बंदूक से घायल हुए हैं।”