समाचार
कोयला आयात से मुक्त होने के लिए स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहन- मंत्री प्रल्हाद जोशी

संसदीय कार्य और कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी ने वेदांता रिसोर्सेज़ लिमिटेड के सहयोग से स्वराज्य द्वारा आयोजित ‘रोड टू आत्मनिर्भर भारत’ वेबिनार में गुरुवार (10 दिसंबर) को संबोधन दिया। अपना अनुभव बताते हुए उन्होंने कहा कि विश्व में कहीं भी कोयले के क्षेत्र में इतने प्रतिबंध नहीं हैं इसलिए वे इसे परिवर्तित करने का प्रयास कर रहे हैं।

कोयला क्षेत्र में उन्होंने स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और खानों की संख्या बढ़ाने की बात की जिससे भारत पूर्णतः आयात से मुक्त हो सके। इसी विचार से खनन क्षेत्र को निजी कंपनियों और प्रत्यक्ष विदेशी के लिए खोया गया है। अवैध कोयला खनन को रोकने के लिए भी कई मंचों के माध्यम से प्रयास किए जा रहे हैं।

भारतीय सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में खनन की भागीदारी बढ़ाने के लिए जोशी ने कहा कि उदारीकरण और निजी क्षेत्रों से यह संभव है। कई खनिजों का खनन के लिए निर्धारित स्तर भी परिवर्तित किया जा रहा है। अधिक स्थानों के भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण करवाने की बात भी कोयला मंत्री ने की।