समाचार
मनरेगा के ग्राम रोजगार सेवकों के बैंक खातों में योगी सरकार ने भेजे 225 करोड़ रुपये

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को प्रदेशभर के मनरेगा के 35,818 ग्राम रोजगार सेवकों को उनका बकाया मानदेय दे दिया। इसके बाद उन्होंने वीडियो सम्मेलन के माध्यम से उनकी समस्याएँ भी सुनीं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास से डीबीटी (सीधा लाभांतरण) द्वारा रोजगार सेवकों के खातों में 225.39 करोड़ रुपये भेजे। इस दौरान ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह व राज्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल, मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह और मुख्यमंत्री की टीम-11 के अधिकारी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने कहा, “उत्तर प्रदेश मनरेगा देशभर में सबसे अधिक लोगों को रोजगार दे रहा है। वर्तमान के आँकड़ों के हिसाब से करीब 22 लाख लोगों को मनरेगा में काम दिया जा रहा है।” उन्होंने ग्राम सेवकों से अपील की कि वे अपने क्षेत्र में अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोड़ें। प्रत्येक मजदूर को साल में 100 दिन का रोजगार मिलना तय हो।

राज्य के ग्राम रोजगार सेवक संघ ने तीन वर्ष का बकाया मानदेय देने पर मुख्मयंत्री का आभार जताया है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश कुमार सिंह, प्रदेश प्रभारी कमलेश कुमार गुप्ता, प्रदेश प्रवक्ता अरुण कुमार मिश्रा ने कहा कि सरकार ने 37,000 ग्राम रोजगार सेवकों के साथ न्याय किया है।