समाचार
उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में बुधवार शाम से 15 दिन के लिए लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध लगाए

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार रात 8.30 बजे राज्य को संबोधित करते हुए प्रदेश में बुधवार शाम से 15 दिनों तक धारा 144 लागू करने की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा कि लोग अनावश्यक घरों से बाहर नहीं निकलेंगे। सिर्फ आवश्यक सेवाओं के लिए ही छूट रहेगी।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, हालाँकि, उद्धव ठाकरे ने परिवहन सेवाओं पर किसी तरह की कोई रोक नहीं लगाई है। राशनकार्ड धारकों के लिए निःशुल्क अनाज देने की घोषणा की है। वहीं, बैंक, ई-कॉमर्स सेवाएँ खुली रहेंगी। पत्रकारों, सुरक्षाकर्मी और पेट्रोलपंप कर्मियों को छूट रहेगी। रेस्त्रां में खाने पर रोक रहेगी पर होम डिलीवरी जारी रहेगी।

उन्होंने कहा, “कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं की भारी कमी हो गई। यहाँ कोविड नियंत्रण से बाहर हो गया है। सारी सुविधाएँ कम पड़ गई हैं। ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी कमी है। हम अपने हेल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर को लगातार उबारने में लगे हैं लेकिन वह तब भी दबाव में है।”

मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं लॉकडाउन की बात नहीं कर रहा पर जो प्रतिबंध लगा रहा हूँ, वह लॉकडाउन जैसा है। रोजी-रोटी के साथ जान बचाना भी जरूरी है और यही हमारी प्राथमिकता है। आज तक जो नियम लगाए गए, उन्हें और बढ़ा रहा हूँ। कल रात 8 बजे से यह नियम लागू होगा। सिर्फ पंढरपुर में थोड़ा बदलाव होगा, जहाँ चुनाव हो रहे हैं।”

इस घोषणा से पूर्व मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन को लेकर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार संग बैठक की थी। इसमें लॉकडाउन से प्रभावित होने वाले लोगों के लिए एक वित्तीय पैकेज तैयार करने को लेकर चर्चा की गई थी। इसके बाद लॉकडाउन को लागू करने और उसकी अवधि को लेकर अंतिम फैसला लिया गया।