समाचार
मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई बोले- “अगर ज़रूरत पड़ी तो मैं खुद जम्मू-कश्मीर जाऊँगा”

जम्मू-कश्मीर के हालातों पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिन रंजन गोगोई ने कहा, “अगर जरूरत पड़ती है तो मैं खुद जम्मू-कश्मीर जाऊँगा।” दरअसल, अदालत ने राज्य के उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से रिपोर्ट मांगी है कि लोगों को अदालत से संपर्क करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है।

हिंदुस्तान लाइव के अनुसार, मुख्य न्यायाधीश ने कहा, “उच्च न्यायालय में लोगों की पहुँच प्रभावित हुई है। इस मसले पर हम न्यायालय के न्यायाधीश से जवाब चाहते हैं। अगर जरूरत पड़ी तो मैं जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय जाऊँगा और न्यायाधीश से वार्ता करूँगा। अगर नागरिक उच्च न्यायालय से संपर्क नहीं कर सकते हैं तो हमें कुछ करना होगा।”

सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से सॉलिसिटर जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा, “राज्य में सभी अदालतें काम कर रही हैं, जिसमें लोक अदालत भी शामिल हैं।” सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य करने के लिए कहा है। जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंधों की याचिका पर मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति एसए बोबड़े और एसए नाज़र की पीठ सुनवाई कर रही है।