समाचार
नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले भाजपा में सम्मिलित

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों ने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया है। उन्होंने कहा, “हमें कांग्रेस समर्थकों ने उकसाया था। ”

द हिंदू  की रिपोर्ट के अनुसार, नए सदस्यों में असम अनुसूचित जाति युवा परिषद के नेता जादव दास और कृषक मुक्ति संग्राम समिति के छात्रसंघ नेता शामिल हैं। इन्होंने 70 अन्य संगठनों के साथ विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया था। प्रदर्शनकारी इस बिल को पहले हिंदू बांग्लादेशियों को नागरिकता देकर क्षेत्र के स्थायी लोगों के खिलाफ एक कदम बताते थे।

युवा परिषद के नेता जादव दास ने कहा, “हमें ऐसे लोगों ने विरोध में बैठने के लिए उकसाया गया था, जिन्होंने कांग्रेस का खुलकर समर्थन किया था।” गृहराज्य मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले यह भरोसा जताया था कि अकेले असम में गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को आश्रय नहीं देने दिया जाएगा।

इस विधेयक में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के गैरमुस्लिमों के लिए आसान बनाने का प्रस्ताव दिया गया था, जो भारतीय नागरिकता हासिल करने के लिए हिंदू, बौद्ध, सिख, ईसाई, जैन, पारसी जैसे धर्मों से जुड़े हुए हैं।