समाचार
भारत में अलीबाबा के सर्वरों पर डाटा चोरी का संदेह, जल्द हो सकती है मामले की जाँच

शीर्ष खुफिया एजेंसियों ने मीडिया को बताया कि चीनी डाटा क्लाउड सर्वर भारतीय उपयोगकर्ताओं के डाटा को चुराकर अपने देश भेज रहा है। कहा जा रहा है कि इसमें भारत में बड़ी चीनी प्रौद्योगिकी दिग्गज कंपनी अलीबाबा के उपकरण भी शामिल हो सकते हैं।

न्यूज़-18 नेटवर्क से बात करने वाले अधिकारियों ने कथित तौर पर खुलासा किया कि सभी संवेदनशील और सहायक डाटा चीन के सर्वरों को भेजे जाते हैं। चीनी फर्म बहुत कम कीमतों पर डाटा सर्वर की पेशकश करके भारतीय संगठनों और ग्राहकों को लुभाने में सक्षम रही है। इस वजह से भारतीय व्यवसायों में इनकी बहुत लोकप्रियता है।

खुफिया एजेंसी द्वारा किया गया यह खुलासा एक बड़ी जाँच की ओर इशारा करता है, जिसमें प्रौद्योगिकी के उपयोग से कई भारतीय नेताओं और महत्वपूर्ण अधिकारियों की सारी जानकारियाँ एकत्र करके चीन को भेजी गई हैं, जिसका पर्दाफाश अब हो रहा है। कथित तौर पर ऐसे अभियानों में शामिल फर्मों के चीनी अधिकारियों या चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से गहरे संबंध हैं।

खुफिया अधिकारियों ने 72 सर्वरों के माध्यम से भारतीय उपयोगकर्ताओं का डाटा चीन को भेजने की जानकारी साझा करते हुए बताया कि देश में चीनी साइबर जासूसी योजनाओं का पता लगाने के लिए जल्द ही बड़े पैमाने पर जाँच हो सकती है।

भारत ने पिछले दो महीनों में सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए लगभग 200 चीनी ऐप्स और गेम्स पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये प्रतिबंध पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीनी घुसपैठ और गलवान में संघर्ष के बाद लागू किए गए थे। प्रतिबंधित ऐप्स की सूची में बहुत लोकप्रिय और व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले टिकटॉक, यूसी ब्राउज़र, शेयरइट और पबजी जैसे ऐप्स शामिल हैं।