समाचार
अरुणाचल प्रदेश के पाँच लोगों का कथित रूप से चीन की सेना ने सीमा से किया अपहरण

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन की सेनाओं के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस मुश्किल वक्त में भी जानकारी मिल रही है कि चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश से पाँच लोगों का कथित तौर पर अपहरण कर लिया।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने चीन-भारत सीमा पर स्थित ऊपरी सुबनसिरी जिले के जंगल में गए पाँच लोगों का पीएलए द्वारा कथित तौर पर अपहरण किए जाने का दावा किया है। एरिंग ने अपहरण किए जाने वाले नागरिकों के नाम भी बताए, जो तनु बकर, प्रसाद रिग्लिंग, नागरु डिरी, डोंटू इबिया और टोच सिंगकम हैं।

उन्होंने दावा किया कि यह दूसरी घटना है, जब पीएलए ने भारत के लोगों का अपहरण किया है। एरिंग ने कहा, “लद्दाख और डोकलाम में घुसपैठ करने के बाद पीएलए ने राज्य में भी ऐसा ही शुरू कर दिया है।”

कांग्रेस नेता ने केंद्र सरकार से चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के नेतृत्व में पीएलए के इस दुस्साहस के लिए मजबूत हस्तक्षेप की मांग की है। उन्होंने कहा, “भारत सरकार को हस्तक्षेप करना ही होगा। यह पैतृक भूमि है। हमारे लोगों को इस पर अपना दावा करने का पूरा अधिकार है।”

इस बीच, गौर करने वाली बात यह है कि पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उन्हें अब भी अपहरण हुए लोगों के परिवार के सदस्यों में से किसी से कोई शिकायत नहीं मिली है, जिनके बारे में दावा किया गया है कि उनका अपहरण कर लिया गया है।