समाचार
पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना की भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की गई नाकाम, झड़प

चीन के सैनिकों ने पहले बनी सहमति का उल्लंघन करते हुए पूर्वी लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश की। इस पर भारतीय सेना की पैंगोंग और त्सो झील क्षेत्र में चीनी सैनिकों के साथ झड़प हो गई और उन्हें सीमा में घुसने से रोक दिया।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, पैंगोंग झील क्षेत्र के पास दोनों देशों के जवान 29-30 अगस्त की रात को आमने-सामने आ गए थे। चीनी सैनिकों ने तय सीमा से आगे बढ़ने की कोशिश की, जिसे भारतीय सैनिकों ने नाकाम कर दिया।

अभी यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि सैनिकों के बीच सिर्फ हाथापाई हुई या फायरिंग भी। भारतीय सैनिक पूर्व से तैयार थे, जिसकी वजह से उन्होंने चीनी सैनिकों के इरादों पर पानी फेर दिया था।

भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने बताया, “चीनी सैनिकों ने पैंगोंग सो झील के पास दक्षिणी हिस्से में घुसपैठ की कोशिश की थी। भारतीय सेना बातचीत के जरिए शांति बनाए रखने में विश्वास रखती है लेकिन हम अपनी सीमा की रक्षा करने में भी सक्षम हैं। इस मामले को सुलझाने के लिए चुशूल में भारत और चीन के बीच ब्रिगेड कमांडर स्तर की बातचीत जारी है।”

कई दौर की बातचीत के बावजूद पूर्वी लद्दाख में तनाव कम नहीं हो रहा है। भारतीय सेना का साफ कहना है कि चीन को अप्रैल से पहले वाली स्थिति बहाल करनी चाहिए।

बता दें कि इससे पूर्व, 15 जून को पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अतिक्रमण को लेकर भारत और चीन की सेनाओं के बीच रात में हिंसक झड़प हुई थी। इसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गई थे। चीन की तरफ से भी 43 सैनिक मारे गए थे। हालाँकि, उन्होंने आधिकारिक रूप से अपने सैनिकों के मारे जाने का खुलासा नहीं किया था।