समाचार
“चीन के बीआरआई और सीपैक भारत की संप्रभुता पर प्रभाव डालते हैं”- नौसेना प्रमुख

भारतीय नौसेना के प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने बुधवार (15 जनवरी) को रायसीना संवाद में चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) और चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपैक) को लेकर चेतावनी दी है। हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा, “ये कदम भारत की संप्रभुता पर प्रभाव डालते हैं।”

पीटीआई ने उनके हवाले से लिखा, “बीआरआई और सीपैक हमारी संप्रभुता पर प्रभाव डालते हैं।” चर्चा के दौरान नौसेना प्रमुख ने हिंद महासागर में बढ़ती चीनी की दखलअंदाजी और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (पीएलएएन) के नौसैनिक जहाजों के भारत के विशेष आर्थिक क्षेत्रों में प्रवेश करने का जिक्र किया।

एडमिरल सिंह ने तीन दिवसीय सम्मेलन में कहा, “हमारे विशेष आर्थिक क्षेत्रों में पीएलएएन जहाजों के प्रवेश करने के बहुत से उदाहरण हैं। नौसेना ने उन्हें बताया कि यह भारतीय क्षेत्र में उसकी घुसपैठ है। हमारे हितों पर अतिक्रमण हो रहा है। हिंद महासागर में चीन की भागीदारी लगातार बढ़ती जा रही है।”

उन्होंने चीन को चेतावनी देते हुए कहा, “भारतीय नौसेना उनके द्वारा उठाए गए कदमों को ध्यान से देख रही है।” रायसीना संवाद विदेश मंत्रालय के समर्थन से हर वर्ष आयोजित होने वाला कार्यक्रम है, जहाँ 100 से अधिक देश भाग लेते हैं और भू राजनीति पर चर्चा करते हैं।