समाचार
चीन ट्विटर व फेसबुक के फर्जी खातों से फैला रहा है देश का प्रोपगेंडा, अध्ययन में खुलासा

चीन ने भले अपने यहाँ फेसबुक और ट्विटर पर प्रतिबंध लगा रखा हो लेकिन वह इन सोशल मीडिया मंचों का उपयोग दुनियाभर के लोगों के सामने अपने देश के प्रोपगेंडा के लिए कर रहा है। इसके लिए उसने कई फर्जी खाते बना रखे हैं।

ऑक्सफोर्ड इंटरनेट इंस्टीट्यूट (ओआईआई) ने चीन द्वारा संचालित मीडिया और चीनी राजनयिकों द्वारा चलाए जा रहे सोशल मीडिया खातों पर सात महीने की लंबी जाँच के बाद यह खुलासा किया है।

ओआईआई और एसोसिएटेड प्रेस द्वारा एक वैश्विक ऑडिट में कहा गया कि चीनी राजनयिक और देश के मीडिया संगठन ट्विटर और फेसबुक पर बहुत सक्रिय हैं। हालाँकि, ट्विटर पर सिर्फ 14 प्रतिशत राजनयिक खातों को देश के संचालित मीडिया द्वारा माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर चलाने की बात कही जाती है।

अध्ययन बताता है, “सभी पीआरसी राजनयिक री-ट्वीट में से लगभग आधे सबसे सक्रिय खातों के 1 प्रतिशत से हैं।” इस अध्ययन के लिए ऑक्सफोर्ड के शोधकर्ताओं ने जून 2020 और फरवरी 2021 के बीच चीनी राजनयिकों और 10 सबसे बड़े देश द्वारा नियंत्रित मीडिया संगठनों द्वारा किए गए हर ट्वीट और फेसबुक पोस्ट की जाँच की।

अध्ययन में बताया गया कि सोशल मीडिया नेटवर्क पर चीनी सरकार की भारी मौजूदगी है। शोधकर्ताओं ने 176 ट्विटर और फेसबुक खातों को अंग्रेज़ी और अन्य भाषाओं में चीनी नियंत्रित मीडिया संगठनों का प्रतिनिधित्व करते हुए पाया है। इन खातों से 7 लाख बार पोस्ट किया गया, उनपर 35.5 करोड़ लाइक के साथ 2.7 करोड़ बार कमेंट और शेयर किया गया है।