समाचार
पाकिस्तान को सऊदी अरब का ऋण चुकाने के लिए चीन 1.5 अरब डॉलर देने पर सहमत

ऋण से दबे पाकिस्तान सरकार के बचाव में फिर से चीन आ गया है। उसने सऊदी अरब के 2 अरब डॉलर का ऋण चुकाने के लिए 1.5 अरब डॉलर की राशि प्रदान करने की सहमति दी है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, 2 अरब डॉलर की राशि पाकिस्तान को जल्द सऊदी अरब को वापस करनी है। इसमें से देश जल्द ही चीन की मदद से एक अरब डॉलर की राशि दे सकता है। वहीं बाद में जनवरी में एक अरब डॉलर और देकर अपना ऋण खत्म करेगा।

इस बार, पाकिस्तान को राशि उधार देने की बजाय चीन ने 2011 में दोनों देशों के बीच 1.5 अरब डॉलर के मौजूदा मुद्रा विनिमय समझौते (सीएसए) के आकार को बढ़ाने का फैसला किया है। इसके साथ, मुद्रा स्वैप समझौते का कुल आकार 4.5 अरब डॉलर हो गया है।

द्विपक्षीय व्यापार और वित्त प्रत्यक्ष निवेश को बढ़ावा देने के इरादे से दोनों देशों ने दिसंबर 2011 में सीएसए पर हस्ताक्षर किए थे। उसके बाद से पाकिस्तान ने अपने ऋणों का भुगतान करने के लिए सुविधा का उपयोग किया। प्रारंभिक सीएसए 1.5 अरब डॉलर के आकार का था और तीन वर्षों के लिए हस्ताक्षरित किया गया था।

बाद में इस सुविधा को दिसंबर 2014 में और तीन साल के लिए बढ़ा दिया गया था। मई 2018 में तीन साल की अवधि के लिए एक और विस्तार किया गया, जिसका आकार 3 अरब डॉलर तक हो गया था।