समाचार
चीन ने पश्चिमी देशों के हॉन्ग-कॉन्ग प्रस्ताव की आलोचना पर दी आँखें फोड़ने की धमकी

चीन की हॉन्ग-कॉन्ग को लेकर हो रही आलोचना के बाद उसने अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड और कनाडा को आँखें निकालने की धमकी दी है। इन देशों ने हॉन्ग-कॉन्ग में सांसदों के रूप में निर्वाचित नहीं होने के लिए चीन द्वारा बनाए गए नियमों की आलोचना को लेकर ‘फाइव आइज़’ गठबंधन बनाया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, इन देशों ने नियमों को वापस लेने के लिए कहा है। इस पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मामले से दूर रहने की चेतावनी दी है।

उन्होंने कहा, “पश्चिमी लोगों को सतर्क रहना चाहिए नहीं तो उनकी आँखें बाहर निकाल ली जाएँगी। चीन कभी कोई परेशानी नहीं पैदा करता और न किसी से डरता है। पश्चिमी देशों को सच्चाई स्वीकारनी चाहिए। चीन ने पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश हॉन्गकॉन्ग को वापस पा लिया है।”

लिजियान ने कहा, “उनकी पाँच आँखें हों या दस, इससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि वे चीन की संप्रभुता, सुरक्षा और विकास हितों को नुकसान पहुँचाने की कोशिश करेंगे तो उन्हें सावधान रहना चाहिए। उनकी आँखें फोड़ी जा सकतीं या उन्हें अंधा किया जा सकता है।

बता दें कि पाँचों देशों के विदेश मंत्रियों ने कहा, “हॉन्गकॉन्ग के लोकतंत्र समर्थक सांसदों को अयोग्य करार देने वाला नया प्रस्ताव सभी की आवाज़ को दबाने की सोची-समझी साजिश का हिस्सा है।” उनके संयुक्त बयान ने प्रस्ताव को चीन के अंतरराष्ट्रीय दायित्वों और हॉन्ग-कॉन्ग को उच्च-स्तरीय स्वायत्तता व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्रदान करने के अपने वादे के उल्लंघन के रूप में संदर्भित किया।

ब्रिटेन ने 1997 में एक समझौते के तहत लगभग 75 लाख की आबादी वाले हॉन्ग-कॉन्ग को चीन को सौंप दिया था लेकिन समझौते में निर्धारित किया गया था कि 50 वर्षों के बाद हॉन्ग-कॉन्ग को स्थानीय मामलों में स्वायत्तता दी जाएगी।