समाचार
चीन में मंकी बी वायरस से पहली मृत्यु, विच्छेदित करने से संक्रमित हुआ था पशु चिकित्सक

चीन में अब मंकी बी वायरस (बीवी) का पहला मामला सामने आया है। इससे संक्रमित हुए पहले व्यक्ति की बीजिंग में मृत्यु हो गई थी। ग्लोबल टाइम्स ने इसकी पुष्टि की है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, मृतक 53 वर्षीय एक पशु चिकित्सक था। वह शोध करने वाली संस्था के लिए काम करता था। मार्च की शुरुआत में दो मृत बंदरों को विच्छेदित करने के एक महीने उपरांत उसमें मतली और उल्टी के प्रारंभिक लक्षण दिखे थे।

चाइनीज़ सेंटर फॉर डिजीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के चाइना सीडीसी वीकली इंग्लिश मंच ने खुलासा किया कि पशु चिकित्सक ने कई अस्पतालों में उपचार की मांग की थी और अंततः 27 मई को उसकी मृत्यु हो गई थी।

शोधकर्ताओं ने अप्रैल में संक्रमित पशु चिकित्सक के मस्तिष्कमेरु द्रव को एकत्रित किया था। जाँच में उसमें मंकी बी वायरस पाया गया था। इसके पश्चात इस पशु चिकित्सक के करीबी संपर्क के नमूने लिए गए पर उनमें वायरस नहीं मिला।

बता दें कि यह वायरस 1932 में सामने आया था। यह सीधे संपर्क और शारीरिक स्राव के माध्यम से फैलता है। इसकी मृत्यु दर 70 से 80 प्रतिशत है। पत्रिका ने सुझाव दिया कि बंदरों में बी वायरस व्यावसायिक श्रमिकों के लिए संभावित खतरा पैदा कर सकता है।