समाचार
अमेरिका के भारत के साथ वाले बयान से चिढ़ा चीन, कहा- “यह हमारा द्विपक्षीय विवाद है”

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की ओर से गलवान हिंसा के अलावा वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ तनाव के बीच भारत के समर्थन में खड़े रहने के बयान पर बीजिंग की कड़ी प्रतिक्रिया आई है। उसने बुधवार (28 अक्टूबर) को कहा, “वॉशिंगटन की हिंद-प्रशांत नीति आउट डेटेड शीत युद्ध रणनीति में धकेलने की है।”

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के विदेश मंत्रालय माइक पोम्पियो की टिप्पणी पर जवाब दे रहा था। उसने कहा, “भारत-चीन सीमा विवाद एक द्विपक्षीय मुद्दा है। अब सीमा पर स्थिति शांत है और दोनों पक्ष बातचीत के माध्यम से आवश्यक मुद्दों को सुलझा रहे हैं।”

वांग वेनबिन ने भारत की जगह वॉशिंगटन की आलोचना करते हुए कहा, “हम हमेशा मानते हैं कि किसी भी देश के बीच द्विपक्षीय संबंध शांति, स्थिरता और क्षेत्र के विकास के लिए अनुकूल होने चाहिए। इससे किसी तीसरे पक्ष के हितों को नुकसान नहीं पहुँचाना चाहिए।”

बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री ने गलवान घाटी में हुई हिंसा में भारतीय जवानों के शहीद होने का जिक्र करते हुए कहा था कि नई दिल्ली की संप्रभुता की रक्षा के लिए वॉशिंगटन उसके साथ खड़ा रहेगा।