समाचार
फ्रांस की असैन्य परमाणु ऊर्जा तकनीक को पाने के लिए चीन ने शुरू कर दी लामबंदी

चीन ने फ्रांस से अरबों डॉलर की महत्वपूर्ण असैन्य परमाणु ऊर्जा तकनीक को हासिल करने के लिए लामबंदी और पीछे के रास्ते से वार्ता करनी शुरू कर दी है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उसी को प्राप्त करने के लिए चीन ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन की अपने देश की यात्रा को सुरक्षित बनाने और यह समझौता करने को राजनैतिक कूटनीति भी तेज़ कर दी है।

2018 में फ्रांसीसी सरकार के स्वामित्व वाली परमाणु ऊर्जा दिग्गज ओरानो और चीन के राष्ट्रीय परमाणु निगम (सीएनएनसी) के बीच एक शुरुआती समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। हालाँकि, 2018 के अंत में यह समझौता सुरक्षा चिंताओं के कारण समाप्त कर दिया गया था।

चीन अब ओरानो और सीएनएनसी के बीच 10 अरब यूरो के सौदे को फिर से शुरू करने की कोशिश कर रहा है। इसमें दो संस्थानों द्वारा चीन में पुन: प्रसंस्करण और रीसाइकिलिंग सुविधा का निर्माण होना शामिल होगा।

यह गौर किया जाना चाहिए सीएनएनसी एक चीनी राज्य के स्वामित्व वाला निकाय है, जो न केवल देश के असैन्य परमाणु कार्यक्रमों बल्कि सैन्य परमाणु कार्यक्रमों की भी देखरेख करता है। यह सक्रिय रूप से एक दशक से अधिक समय से डोमेन में फ्रांसीसी तकनीक तक पहुँचने की कोशिश कर रहा है।

समझौते को हासिल करने के लिए चीन की पहल उस वक्त आई है, जब फ्रांस यूरोप में चीनी महत्वाकांक्षाओं को पीछे धकेलने की कोशिश कर रहा है।