समाचार
श्रीलंका- चीन समर्थित गौतबाया राजपक्षे बने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाई

श्रीलंका के पूर्व रक्षा मंत्री गौतबाया राजपक्षे ने राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत लिया है। उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी के उम्मीदवार साजिथ प्रेमदासा को 13 लाख से अधिक मतों के अंतर से हराया। इस पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजपक्षे को बधाई दी। साथ ही उन्हें भारत आने का निमंत्रण दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।

टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “गौतबाया राजपक्षे को राष्ट्रपति चुनाव में जीत पर बधाई। आपके साथ दोनों देशों और नागरिकों के बीच संबंध गहरे करने और क्षेत्र में शांति, समृद्धि व सुरक्षा बढ़ाने के लिए काम करने को उत्साहित हूँ।”

राजपक्षे ने भारत के लोगों और प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा, “वह दोस्ती को मजबूत करने और निकट भविष्य में उनसे मिलने के लिए उत्सुक हैं।” जानकारों के अनुसार, चीन समर्थक राजपक्षे चुनाव जीतने के साथ ही भारत के हिंद महासागर क्षेत्र में उपस्थिति पर असर डालेंगे, जहाँ बीजिंग तेजी से बढ़त बना रहा है।

गौतबाया राजपक्षे सोमवार को देश के 7वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे। राजपक्षे परिवार से राष्ट्रपति बनने वाले दूसरे सदस्य होंगे। उनके बड़े भाई महिंदा राजपक्षे 2005 से 2015 तक राष्ट्रपति रहे थे। चुनाव आयोग के अनुसार, राजपक्षे को 52.25 प्रतिशत वोट (6,924,255) मिले, जबकि प्रेमदासा को 41.99 प्रतिशत (5,564,239) वोट हासिल हुए।

राजपक्षे ने जीत के बाद ट्वीट किया, “श्रीलंका ने एक नई यात्रा शुरू की है। सभी श्रीलंकाई नागरिक इसका हिस्सा हैं। यह मौका देने के लिए मैं आप सभी का आभारी हूँ। मैं न केवल उन लोगों का, जिन्होंने मुझे वोट दिया बल्कि सभी नागरिकों का राष्ट्रपति के रूप में आभारी हूँ। आपने मुझ पर जो भरोसा किया है, उस पर मैं आगे बढ़ रहा हूँ। आपका राष्ट्रपति होना मेरे जीवन का सबसे बड़ा सम्मान होगा।”