समाचार
चीन के पत्रकार ने गलवान हिंसा के शहीदों की संख्या पर उठाए सवाल तो हुआ गिरफ्तार

गलवान में गत वर्ष भारतीय जवानों से पीएलए सैनिकों की हिंसक झड़प हुई थी। इसमें चीन ने चार जवानों के शहीद और एक के घायल होने की बात कही थी लेकिन अब एक चीनी खोजी पत्रकार ने चार से अधिक जवानों की जान जाने का दावा किया है, जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के आधिकारिक दावे पर सवाल उठाने के बाद किउ ज़िमिंग (38) को शनिवार (20 फरवरी) को नानजिंग में गिरफ्तार किया गया था।

चीन में उपयोग किए जाने वाले ट्विटर के समतुल्य वेइबो पर किउ ने अपने 2.5 मिलियन फॉलोवरों से कहा था कि चीन के चार से अधिक जवान शहीद हुए होंगे क्योंकि सरकार की तरफ से कहा गया था कि कुछ सैनिकों की मौत मुश्किल में जूझ रही सैन्य टुकड़ी की सहायता के दौरान हुई थी, जिन्हें भी नुकसान उठा पड़ा था।

किउ ने चीन से हुई झड़प में मारे गए शहीदों की घोषणा में आठ महीने की देरी पर भी सवाल उठाया क्योंकि भारत ने इसके विपरीत मारे गए 20 सैनिकों की पहचान कर ली थी। उन्होंने कहा था कि भारत के दृष्टिकोण में उन्होंने कम नुकसान झेलकर जीत हासिल की। इस तरह उन्होंने तत्काल शहीद हुए सैनिकों को पहचान की ली, जो झड़प में मारे गए थे।

नानजिंग पुलिस की ओर से पोस्ट किए गए एक संदेश में कहा गया कि किउ को झूठी सूचना जारी करने के लिए गिरफ्तार किया गया। ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि किउ ने यह स्वीकार किया है कि उसने इंटरनेट में सनसनी पैदा करने के लिए इस झूठ को फैलाया था।