समाचार
नियमों के उल्लंघन पर बैंक ने किया चंदा कोचर को बर्खास्त, लौटाने होंगे शेयर व बोनस

एक स्वतंत्र पूछताछ में आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) चंदा कोचर को बैंक की आचार संहिता और आंतरिक नीतियों का उल्लंघन करने के मामले में दोषी पाया गया है। बैंक ने उनके त्यागपत्र को कारणवश सेवा समाप्ति की तरह व्यवहार में लाने के निर्णय लिया है जिससे उन्हें सेवानित्त होने के लाभों से वंचित रखा जाएगा, साथ ही 2009 से मिले बोनस को भी लौटाना होगा।

केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रबंधन निदेशक वेणुगोपाल धूत को भ्रष्टाचार के माध्यम से वीडियोकॉन समूह को अत्यधिक ऋण देने के मामले में जाँच के घेरे में लिए जाने के कुछ दिनों बाद ही यह कदम उठाया गया है।

बैंक के अनुसार जस्टिस श्रीकृष्णा के नेतृत्व में पैनल ने जाँच की थी और पाया कि नियमों का उल्लंघन हुआ है। कारणवश सेवा समाप्ति के कारण बैंक वर्तमान और भविष्य में दिए जाने वाले लाभों को वापस ले लेगा जिसका अनुमानित मूल्य 350 करोड़ रुपये है।