समाचार
शुद्ध महादेव समेत अन्य धार्मिक स्थलों के कायाकल्प के लिए 84 करोड़ रुपये की स्वीकृति

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “84 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जम्मू-कश्मीर के उधमपुर जिले के शुद्ध महादेव और मानतलाई- प्राचीन धार्मिक स्मारकों व मंदिरों के विकास पर खर्च की जाएगी।”

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने कहा, “स्वदेश दर्शन योजना के तहत केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने हिमालय सर्किट के अंतर्गत मानतलाई-शुद्ध महादेव-पटनीटॉप में पर्यटकों की सुविधाओं के लिए विकास की स्वीकृति दी है।”

शुद्ध महादेव मंदिर पटनीटॉप से ​​42 और किमी जम्मू से 112 किमी की दूरी पर स्थित है। माना जाता है कि गौरी कुंड नामक झरने में स्नान करने के बाद पास में ही शुद्ध महादेव हैं, जहाँ माता पार्वती ने शिवलिंग की पूजा की थी। कहा जाता है कि यह मंदिर 3000 वर्ष पुराना है।

मंदिर में शिव के त्रिशूल के साथ शिव और पार्वती की एक काले संगमरमर की मूर्ति भी है। शुद्ध महादेव के कुछ किमी (1450 मीटर) आगे मानतलाई है, जो हरे-भरे देवदार के जंगलों से घिरा है।

पौराणिक कथा के अनुसार, यह वो स्थान है, जहाँ भगवान शिव का विवाह देवी पार्वती से हुआ था। मानतलाई से 5 किमी दूर नैना देवी के लिए जंगल के जरिए जाने का रास्ता है, जहाँ से पर्वतीय शृंखलाओं का खूबसूरत नजारा मिलता है। खन्ना ने कहा, “परियोजना न केवल पर्यटकों को आकर्षित करेगी बल्कि स्थानीय आबादी की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगी।”