समाचार
राम जन्मभूमि न्यास को लौटाई जाए अतिरिक्त भूमि, केंद्र ने मांगी न्यायालय की अनुमति

मंगलवार (29 जनवरी) को केंद्र ने राम जन्मस्थल के निकट अविवादित भूमि को मुक्त करने की आज्ञा सर्वोच्च न्यायालय से मांगी है। केंद्र द्वारा अधिग्रहित 67 एकड़ भूमि अविवादित है, जबकि 0.3 एकड़ क्षेत्रफल पर बनी बाबरी मस्जिद को ही विवादित भूमि के रूप में देखा जा सकता है इसलिए केंद्र भूमि के पुराने मालिकों को यह भूमि लौटाना चाहता है, लाइव लॉ  ने बताया।

1993 में केंद्र द्वारा अधिग्रहित इस भूमि को पुनः राम जन्मभूमि न्यास को लौटाने की अनुमति मांगी गई है। केंद्र का कहना है कि इस अतिरिक्त भूमि से विवादित स्थल तक पहुँचने का मार्ग बनाया जा सकेगा जिससे न्यायालय विवादित भूमि पर अधिकार किसी भी पक्ष को दे, दूसरे पक्ष को वहाँ जाने से रोका नहीं जा सकेगा।

इसके अलावा केंद्र का यह भी कहना है कि अतिरिक्त भूमि के अधिग्रहण से किसी भी उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो रही तो बेहतर होगा कि भूमि इसके पूर्व स्वामियों के पास चली जाए।